शुक्रवार, 6 नवंबर 2020

मन के मनके साझा करतीं

न ही तुम हो स्वर्ण-मुद्रिका- 
जिसे तपा के जांचा जाए.
**********
जितनी बार रूमानी होकर 
 स्वप्निल होने को मन कहता
उतनी बार मीत तुम्हारा 
भोला मुख सन्मुख है रहता.
**********************
सच तो है अखबार नहीं तुम,
जिसको को कुछ पल बांचा जाये.
न ही तुम हो स्वर्ण-मुद्रिका-
जिसे तपा के जांचा जाए.
मनपथ की तुम दीप शिखा हो
यही बात हर गीत है कहता ।
************************
सुनो प्रिया मन के सागर का
जब जब मंथन मैं करता हूं
तब तब हैं नवरत्न उभरते
अरु मैं अवलोकन करता हूँ
हरेक रतन तुम्हारे जैसा..!
तुम ही हो , मन  है कहता.
************************
मन के मनके साझा करतीं
पीर अगर तो मुस्कातीं तुम ।
पर्व दिवस के आने से पहले
कोना कोना चमकाती तुम !
दुविधा अरु संकट के पल में
मातृ रूप , तुम में मन लखता ।।
************************

1 टिप्पणी:

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं