मन के मनके साझा करतीं

न ही तुम हो स्वर्ण-मुद्रिका- 
जिसे तपा के जांचा जाए.
**********
जितनी बार रूमानी होकर 
 स्वप्निल होने को मन कहता
उतनी बार मीत तुम्हारा 
भोला मुख सन्मुख है रहता.
**********************
सच तो है अखबार नहीं तुम,
जिसको को कुछ पल बांचा जाये.
न ही तुम हो स्वर्ण-मुद्रिका-
जिसे तपा के जांचा जाए.
मनपथ की तुम दीप शिखा हो
यही बात हर गीत है कहता ।
************************
सुनो प्रिया मन के सागर का
जब जब मंथन मैं करता हूं
तब तब हैं नवरत्न उभरते
अरु मैं अवलोकन करता हूँ
हरेक रतन तुम्हारे जैसा..!
तुम ही हो , मन  है कहता.
************************
मन के मनके साझा करतीं
पीर अगर तो मुस्कातीं तुम ।
पर्व दिवस के आने से पहले
कोना कोना चमकाती तुम !
दुविधा अरु संकट के पल में
मातृ रूप , तुम में मन लखता ।।
************************

टिप्पणियां

टिप्पणी पोस्ट करें

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रेम के तिनकों पर लपकतीं संस्कृति की लपटें

महफ़ूज़ अली की कविता वाली ती शर्ट पहनेंगे अमेरिकन

असहमति या यह सिद्ध नहीं करती कि कोई आपका विरोधी ही है