शुक्रवार, 25 दिसंबर 2020

उम्र दराज़ बुज़ुर्ग

उम्र के साथ 
बढ़ जाती है उम्मीदें..!
सपने हैं कि
झुंड के झुंड चले आते हैं
चुलबुली चहकतीं चिड़ियों की तरह
उम्र के साथ चहकते हैं...!
सपने अपने कमजोर 
हो जाने वाले
एहसासों को ...
अपनी पीठ पर बैठा कर
बहुत ऊंचे ले जाते हैं 
ये सपनों के पंछी ।
और फिर
उम्र के साथ बढ़  जातीं हैं उम्मीदें 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं