मुकुल के दोहे


फ़ागुन बेढप सा लगे, मौसम करे निरास ,
प्रिय बिन जारी है यहां, आंखों का उपवास !!
**********
नेह निवाले हाथ में, थामू कब तक बोल ?
मुझे देखना छोड़ के कान्हा अब मुंह खोल !!
**********
प्रीत पगी बानी सुनी, बढ़ा रक्त संचार
पागल मुझको कह रहा, ख़ुद  पागल संसार !!
**********
बीते पल पीछा करें, मन में भरा मलाल
इस फ़ागुन बेकार सब, टेसू-रंग-गुलाल !!
**********
और अब  सुनिये ये गीत

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं