तुम और तुम्हारी आहटें,

तुम और तुम्हारी आहटें,
मन के सारे दरवाजे खोल देती है
और
जी उठती हूँ
मैं एक बार फिर ,
खिलखिलाकर मुस्कुरा देता है जीवन
तुम्हारी आहटों को करीब पाकर .
मीलों के फासलों से भी तुम्हारी खुशबू
मुझको विचलित कर देती है
अच्छा ,बुरा साथ और दूरी
इन सब से दूर आ चुकी हूँ मैं ,
तुम्हारे साथ चलते चलते
(पूरी कविता यहां पढिये )"अनुभूति"

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं