भूल

हां
कल बहुत देर तलक 
फ़ूलों से बतियाता रहा
वो मुझसे 
     कुछ नहीं बस
प्यार की बूंदें चाह रहे थे
और  उनके मन की बात
बता तो दी थी माली को
                                                                                           पर मैं न  दे पाया ,
झारे से शीतल फ़ुहारें उनको !!

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं