हां..! ये शाम उस शाम से जारी हर शाम पर भारी

 [Indian-motifs-58.jpg]
हां..! ये  शाम
उस शाम से  जारी
हर शाम पर भारी
जब हुई थी
 मुलाक़ात
खनकती आवाज़
से.... !
आओ..
फ़िर उस पहली शाम को याद करें
रिक्तता में रंग भरें
लौटें उस शाम की तरफ़
जो आज़ हर शाम पे भारी है...!
*************************
वो जो मुझे खींचता है
उस ओर जिधर तुम हो
उसे प्यार का नाम दें  !
आज़ इस बहाने
एक-दूजे का हाथ थाम लें...!!
न तो तुम और नही मैं रिक्त रहूं
न तुम कहो
न मैं सुनूं...!
मैं प्रीत के धागे लेकर आया हूं उलझे हुए
एक शामियाना
हमारे प्यार के लिये
कभी तुम बुनो कभी  मैं बुनूं...!!
[चित्र रानी विशाल जी की पोस्ट न आए विरह की रैन से साभार ]

टिप्पणियाँ

  1. भावों को बहुत खूबसूरती से पिरोया है...

    उत्तर देंहटाएं
  2. आप इस समय कहाँ पर हैं कोई अता पता नहीं है....

    उत्तर देंहटाएं
  3. जी भैया सी एम साब के कुंडम प्रवास के लिये तैनात था जी

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूब...सुंदर भावपूर्ण रचना...बधाई जी

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर भावपूर्ण रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  6. एक शामियाना
    हमारे प्यार के लिये
    कभी तुम बुनो कभी मैं बुनूं...!!
    अत्यंत मनोहारी, रूमानी और भावपूर्ण रचना
    और फिर शामियाना बुनने की ख्वाहिश के तो क्या कहने
    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह वाह

    प्रस्तुति...प्रस्तुतिकरण के लिए बहुत बहुत धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  8. मैं प्रीत के धागे लेकर आया हूं उलझे हुए
    एक शामियाना
    हमारे प्यार के लिये
    कभी तुम बुनो कभी मैं बुनूं...!!
    --
    बहुत प्यारी अभिव्यक्ति है!

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं