रविवार, 2 अगस्त 2020

Lamtera : loudly soul generated voice of spiritual person..

बुंदेली लोक गायन में 3 गायन शैलीयाँ  मुझे बहुत भावुक कर देती है जिनको #बम्बूलियाँ, #देवीजस और  #लमटेरा के नाम से जानते हैं । यूं तो बुंदेली लोक गायन में ढिमरयाई, फाग, राई, बरेदी, बधाई,  भी हैं । पर ये तीन आध्यात्मिक चिंतन से सराबोर होने के कारण मोहित करतीं हैं । इन से मेरा बचपन से रिश्ता बन गया था । #बाबूजी रेलवे में स्टेशन मास्टर हुआ करते थे तब मैंने इनकी ध्वनियों को सुना था । 
*गांव के रेलवे स्टेशन के पास से गुज़रते क़ाफ़िले से उभरती मधुर समवेत आवाज़ें जो बैलों की गले की लकड़ी और पीतल की घंटियों , पहियों की खड़ख़ड़ाहट, के साथ सम्मिश्रित ( synchronise ) होकर कुछ इस तरह बन जाती थीं...गोया गंधर्वों के झुंड के झुंड सपरिवार धरा पर उतर आए हों शिव को तलाशने वह भी बेटी शांकरी के अंचल में*
मां नर्मदा के भक्त बुंदेलखंड में कुछ इसी तरह का दृश्य बनाया करते थे ।
ऐसे दृश्य अक्सर मैंने सुबह-सुबह देखे-सुने हैं । तब जब बहुत कम उम्र थी मन में संगीत के प्रति अनुराग पैदा हो गया । शनै: शनै: जब नर्मदा के महत्व को समझा तो जाना कि पूरे नर्मदा तट ही नहीं आध्यात्मिक चिंतन के वे तट हैं जहां गुरुवर शंकराचार्य साधना स्थल के रूप में चिन्हित कर गए थे।
इन्हीं तटों के इर्दगिर्द पनपी मालवी, निमाड़ी, भुवाणी, बुंदेली, बोलियां । 
   बुंदेलखंड महाकौशल के आसपास बचपन रहने के कारण मुझे बम्बुलिया, एवम  लमटेरा, ढिमरयाई, फाग, राई, जैसी गायन-शैलियों ने खूब लुभाया है। पर सबसे अधिक बम्बूलियाँ एवम लमटेरा ने । 
बंबुलिया और लमटेरा शैली में जिस तरह से लोक गायक आत्मा से निकली हुई आवाज में शिव और नर्मदा की आराधना करते हैं, उसे केवल एक आध्यात्मिक संगीत ही कह सकता हूँ । इससे अलग कुछ भी मानने को तैयार नहीं । 
बम्बूलियाँ एवम लमटेरा शैली में जिस आवाज़ का प्रयोग होता है वो आवाज़ *loudly soul generated voice of spiritual person..* ही है । 
कुछ उद्धरण देखिए
दरस की तो बेरा भई रे...!
पट खोलो छ्बीले भैरो लाल रे..!
लगन मोरी तुमसे तो लगी रे...!
महादेव बाबा बड़े रसिया रे...!!
फ़ोटो Mukul Yadav ji

4 टिप्‍पणियां:

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं