जीभ-पलट गीत :- कुछ ऊंट ऊंचा कुछ पूंछ ऊंची ऊंट की


जीभ-पलट गीत गाने में जितने कठिन उतने लिखने में ओर पढ़ने में नहीं अपने आगामी एलबम के लिये जो खास तौर पर बच्चों के लिये होगा यह पहला गीत दे रहा हूं मित्रो इस गीत के   शीर्षक :- कुछ ऊंट ऊंचा कुछ पूंछ ऊंची ऊंट की को आप ५ से ज़्यादा गाकर देखिये मज़ा आएगा जब बच्चे इसे गाएंगे तो कितना मज़ा आएगा इसका अन्दाज़ा हम लगा नहीं सकते
***************************
कुछ ऊंट ऊंचा कुछ पूंछ ऊंची ऊंट की
***************************
ऊबड़-खाबड़ रास्ता , बूढ़ा बक़रा खांसता
चीकू की कापी ले बन्दर बैठा- डाल पे जांचता
अब्बू घर से बाहर निकले-रुत आई तब छूट की 
कुछ ऊंट ऊंचा कुछ पूंछ ऊंची ऊंट की
***************************
http://1.bp.blogspot.com/_BXZWsZqafks/TCOYM0Ug7-I/AAAAAAAAEcU/9QSsQjtr340/s1600/DSCF0697.JPG
एक कहानी गोधा रानी मल्ला चोर खींचे डोर
रोए मोरनी पांव देख के , देखे बादल नाचे मोर
नाच मयूरी कल लाऊंगां सोलह जोड़ी बूट की
कुछ ऊंट ऊंचा कुछ पूंछ ऊंची ऊंट की
*************************** 
http://hindi.webdunia.com/entertainment/tourism/religiousplace/0902/23/images/img1090223097_1_3.jpg
सरपट गांव का रास्ता,बकरा कैसे खांसता
बन्दर का टूटा था चश्मा कैसे कापी जांचता ?
गोधा रानी कहां की रानी मल्ला चोर कैसा चोर
बनी दुलहनियां देख मोरनी, मस्ती में फ़िर नाचे मोर ..
पहले-पहल कही मेरी...... सारी बातें झूठ थीं
कुछ ऊंट ऊंचा कुछ पूंछ ऊंची ऊंट की
---------------------------------------------------
http://hi.inter-pix.com/db/art/misc/mosaic_tiles/m-639047.jpg
दो:- आगामी पोस्ट में

टिप्पणियाँ

  1. पूंछ भी ऊंची ,ऊंट भी ऊंचा
    हमने तो ऊट देखा ही नहीं
    लेकिन जब ये कविता बच्चे गायेंगे तो पूरा ऊट दिखाई देने लगेगा और बन्दर का चश्मा तो बच्चे खुद ही बना देंगे
    sundar कविता ,majedaar भी

    उत्तर देंहटाएं
  2. kya baat hai, aaj to ek naya flavor mila aapki lekhni ka...!

    उत्तर देंहटाएं
  3. वर्स्टाइल क्वि जो ठहरा हा हा शुक्रिया प्रीति जी

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह , ये स्टाइल बहुत बहुत बढ़िया रहा ...बच्चे लोग बहुत आनंद लेंगे इसमें जब बड़ों को ही इतना मजा आ रहा है !
    अभी निकुंज को सुनता हूँ !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. निकुन्ज को मेरा असीम स्नेह कहिये

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह बहुत बढिया .. बधाई और शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह गजब कर दिया,
    आपकी लेखनी में दम है
    इसलिए उ पी मे.........है

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह ललित जी देखो तो पांच बार बोल के ”कुछ ऊंट ऊंचा कुछ पूंछ ऊंची ऊंट की ”

    उत्तर देंहटाएं
  9. बाल गीतों की अनिवार्य शर्त होती है उनमे ऐसे शब्दो का प्रयोग जिनसे ध्वनि उपजती है । ध्वनिमूलक शब्दो की यह विशेषता होती है कि वे लय को सहारा देते है । और बच्चों के लिये यह गेय होना बहुत ज़रूरी है । इस गीत मे यह सब विशेष्तायें है इसलिये निश्चित ही यह गीत बच्चों को बहुत पसनद आयेगा । और निश्चित ही इसमे सन्देश तो है ही जो कवि का मूल उद्देशय होता है ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. तो हो जाये...............”कुछ ऊंट ऊंचा कुछ पूंछ ऊंची ऊंट की ” .........कल से यही चल रह है.............

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपके बिना आदेश के पांच बार पड़ा......मज़ा आया.....कच्चा-पापड़-पक्का पापड़ जैसा उल्टा-पुल्टा हो जाता है....बेहतरीन रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  12. bahut hi muskil hai sir ...ek baar bhi theek se nahi hota to 5 baar kahan se honge ...
    is geet se message bhi bahut hi umda diya hai aapne ........
    kabil e tareef ..

    उत्तर देंहटाएं
  13. लगता बचपन लोट आएगा
    बसंत मिश्रा

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं

लोकप्रिय पोस्ट