नर्मदा गीत

स्वजनों को नर्मदा जयंती पर हार्दिक बधाई के साथ
     सेठानी घाट होसंगाबाद
मंथर प्रबल प्रवाहनी माँ
रेवा मक्र-वाहिनी माँ ।। 
प्रिय का पथ तज भई बिरागिनि
युग की पीर निवारिनी माँ ।। 

निर्मलजल कल कल अविरल
बिंदु बिंदु अमृत का मिसरन ।
तट हरियाए हुलस हुलस के-
सकल धरा पहने आभूषन ।।
बनी प्रकृति सवारनी  माँ ।। 

कोल भील वनचर पथचारी
तेरे तट बहु तीरथ माई ।
कलकल जल कलरव के संग
कंठ कंठ ने कथा सुनाई ।।
पंथ प्रबल मन भावनी मां ।।
*गिरीश बिल्लोरे मुकुल*

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रेम के तिनकों पर लपकतीं संस्कृति की लपटें

महफ़ूज़ अली की कविता वाली ती शर्ट पहनेंगे अमेरिकन

असहमति या यह सिद्ध नहीं करती कि कोई आपका विरोधी ही है