संदेश

दिसंबर, 2017 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

भीगा भीगा परबत

चित्र
एक पल में जान निकालने वाली विरह की तपन के नज़दीक बैठे बैठे में अचानक हताशा और कसक के बीच हिचकोले लेती नाव सी सिर्फ और सिर्फ बहाव के साथ बहते हुए तुम्हारे पास आने को कसमसाती सी बेसुध हो जातीं हूँ । आज जब उसने बरसों पुरानी बात याद दिलाई तो एक एक कर मैं तब की सारी घटनाओं को सिंक्रोनाइज कर रही हूँ । आज मैंने पूछ ही लिया कि- हाँ मुझे तुमसे शिकायत है .  तब क्यों न बोले तुम जो सरिता के उसपार बैठे बैठे 30 साल बाद अपनी भूल को कबूल कर रहे हो ?    वो -  कैसे करता श्यामली कायर नहीं था  पर परिवार कॅरिअर सब देखना था ।  सोचा था  कुछ दिन बाद  बहनों के विदा होते ही मैं अभिव्यक्त कर दूंगा ।   मैं - भला कोई इतना संयत कैसे हो सकता है कि अपनी बात न रखे ।    वो- अच्छा बताओ श्यामली मेरी ज़गह तुम होतीं तब क्या करतीं ?     मैं- वही जो तुमने किया पर में स्त्री थी न डरती थी कि पता नहीं क्या होगा सामाजिक प्रतिबंधों का सबसे बड़ा असर लड़कियों पर ही होता था न तब !  तुम पुरूष हो  मुझे कहते तो ! वो - हाँ कह देता , तीस साल पहले कह देना था मुझे कि मैं ....... पर तुम क्या रियेक्ट करतीं ये सोच के न किया फिर घर

हाँ मैं कह न सका कि

चित्र
उस दिन तय कर लिया था कि आज बताना है कि मैं प्यार में भीगा हूँ । सोचने लगा कि कह दूं घर जाकर कि - सुनो तुमसे प्यार है , तुम इंकार न करना । तुम्हारी चपल चँचल निग़ाहों में प्रेम के पक्के वाले रंग मुझे दिखाई दे रहें हैं । घर से कुछ दूर खड़ा होकर घर की तरफ देखा मुड़कर छोटी बहन ने बुलाया - भैया क्या कहीं जा रहे हो ? ये बुक ले आना ठीक है सपाट ज़वाब देकर निकला और रिक्शेवाले से कहा - यादव कॉलोनी ? 25 रुपया ....! 15 ? नहीं 20 ? अरे यार दादा तुम तो बाहरी सवारी समझ लिए ? तभी दूर से समाली आता दिखा मुझे रिक्शेवाले से बात करते वो तेजी से आ गया और बोला - काय , काहे झंझट कर रहा है कहाँ जाना है साब ? मैं :- ........ कॉलोनी समाली :- 10 रुपे ठीक हैं जाएगा ? रिक्शे वाला आगे बढ़ गया , समाली ने अपना रिक्शा आगे किया मुझे बैठाया और चल दिया । 25 मिनट बाद हम ...... कॉलोनी चौक पर थे । रास्ते में एक सुंदर सा बुके लिया 15 रुपए का कवि होकर भी इज़हारे इश्क़ के इज़हार की रिवायतों से नावाकिफ .... मुझ नामाकूल को न तो पैग़ाम ए इश्क़ की रिवायत पता थी न रस्म ए मोहब्बत वो भी एक हसीन से जो श्यामली सुंदर नैन नक़्श व

परदेसी पाखियों का आना जाना

चित्र
अब अक्सर देर रात मिलूंगा उससे मेया मेरे भतीजे Ankur Billore की बेटी एक हफ्ते तक हमारी आदत में शुमार थी । कुछ दिनों में अपने दादू का देश छोड़  वापस ट्रम्प दादू के देश फुर्र हो जाएगी । कब आएगी कौन जाने । थैंक्स मीडिया के नए वर्जन को जिसके के ज़रिए मिलती रहेगी । हज़ारों लाखों परिवार बच्चों को सीने पे पत्थर रख भेजते हैं । विकास के इस दौर में गोद में बिठाकर घण्टों बच्चों से गुटरगूँ करते रहने का स्वप्न केवल स्वप्न ही रह जाता है । देश के कोने कोने के चाचे मामे ताऊ माँ बाबा दादा दादी इस परदेशियों के लिए तड़पते हैं मुझे इस बात का मुझे और हम सबको अंदाज़ है ।  पहली बार रू ब रू मिला वो मुझे पहचान गई  2 बरस का इन्वेस्टमेंट था नींद तब आती थी जब अमेया से नेट के  ज़रिए मस्ती न कर लूं । दिन भर Balbhavan के बच्चों में अमेया मिला करती है । प्रवास से देश का विकास ज़रूरी भी है । इस देश में यूं तो कुछ हासिल नहीं होता योग्यताएं सुबकतीं है तो तय ही है बच्चों का प्रवासी पंछी बन जाना । साउथ एशिया में भारत के योग्य बच्चे भले ही विदेशों में राजनीतिक रूप से महिमा मंडित किये जाते हैं किंतु किसी बड़बोले सियासी की ज