बुधवार, 5 जुलाई 2017

देर रात तलक न दिमाग सोता है न कलम

रख देता हूँ रहन
अपने चंचल सपन
तुम्हारे चंचल मन के पास 
और फिर सोने की कवायद में 
करवटें बदलता हूँ 
देर रात तलक
न दिमाग सोता है
न कलम
दिलो दिमाग पर
विषय ऊगते हैं ...
कुछ पूछते हैं
कुछेक जूझते हैं मुझसे
लिखता हूँ
मुक्कमल हो जाता हूँ..
फिर झपकतीं हैं पलकें
तुम वापस भेज देतीं हो
नींद जो रख देता हूँ रोज़  रहन
तुम्हारे पास
फिर होती है
भोर तो मेरी रोजिन्ना
देर से होती है !
तब जब  पेप्पोर रद्दी वाला चीखता है
हाँ तभी 
जब भोर हो जाती है 

1 टिप्पणी:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (07-07-2017) को "न दिमाग सोता है, न कलम" (चर्चा अंक-2659) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं