पोर पोर पीर बोई पलक पलक धार ने

पोर पोर पीर बोई पलक पलक धार ने
बिरह अगन झुलसाए, प्रीत के ब्यौपार में
          ##############
पाखी के जोड़े को संग साथ देख जरूं,
प्रीत पाती लिख तुमसे, बेसुध हो बात करूं !
बिरहा में जीवन, ज्यों बाटियां अंगार में… !
बिरह अगन झुलसाए, प्रीत के ब्यौपार में  !!
        ##############
मद भी मैं मदिरा भी, अमृत मैं मान भी,
प्रिय बिन आधी मैं ही,प्रिय की पहचान भी..!
बो मत प्रिय नागफ़नी, तरुतट कचनार में..!!
बिरह अगन झुलसाए, प्रीत के ब्यौपार में  !!
       ##############
आखर तो आखर हैं,आखर में भाव भर
केवल अब प्रेम कर , मोल कर न भाव कर
प्रेम कहां मिलता है..? ऊंचे बाज़ार में..?
बिरह अगन झुलसाए, प्रीत के ब्यौपार में  !!

       ##############

टिप्पणियाँ