जैसे सावन सूर को, ऊसर न दिख पाए ...!!

प्रिय छब ऐसी मोहिनी, लख कछु भी न  भाए-
अंखियन से वो सब कहा, ओंठ जो कह न पाए

                     **********
गहरे  सागर  से  नयन , मन  भी  गोताखोर- 
छवि जो नित न लख सकूं, मनमोर मचाए शोर 
                      **********
प्रियपथ की अनुगामिनी, अनदेखे अकुलाय
जैसे सावन सूर को, ऊसर न दिख पाए ...!!
                     ***********


टिप्पणियाँ