भाई से पिटें तेरे या छ्ज्जे से गिरें हम

इज़हारे इश्क  में ज़ख्म, मिलना है तय शुदा
भाई से पिटें तेरे या छ्ज्जे से गिरें हम
इक संत का सिखाया इश्क़ सबसे कर के देख
काफ़ी घरों में बेहूदा नुमाइश न करें हम..!!
हर गुल की पंखुरी चिकनी ही है होती-
बेवज़ह चमेली को न बदनाम करें हम ...!!


 .

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं