शुभ-दीवाली


 नेह दीप जो तुमने बारे दीवट-आंगन मन उजियारे
मांड रंगोली चिहुंकी बोली- रख आओ दीपक पहुनारे


टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रेम के तिनकों पर लपकतीं संस्कृति की लपटें

महफ़ूज़ अली की कविता वाली ती शर्ट पहनेंगे अमेरिकन

मन के मनके साझा करतीं