बस एक बार देख लो तुम्हारे ही पल हैं न ये पल ?

तुम जो हासिये पर 
रखती हो अपने सपने
तुम  जो रो रो कर 
सूनी रातों में 
यादों के तकिया लगाकर..
भिगो देतीं हो तकिया
फ़िर इस डर से कि 
बेटी पूछेगी सफ़ेद तकिये पर
खारे आंसुओं के निशान देख -"मां, आज़ फ़िर तुम..गलत बात "
तुम जो उठ उठ कर 
आज़ भी  इंतज़ार करती  हो !!
सुनहरी यादों के उन पलों को..!
मैं कब से 
हाथों में संजोए बैठा हूं !
बस एक बार देख लो 
तुम्हारे ही पल हैं न ये पल ?
जो तुमसे छिटक कर छले गये थे 
हां सुनहरी यादों वाले !!  

टिप्पणियाँ

  1. वह बहुत ही उम्दा पोस्ट है !टाइम निकल कर कभी हमारे ब्लॉग पर भी आए !मेरे ब्लॉग पर आ कर मेरा मान रखे!
    Download Movies
    Lyrics + Download Latest Music

    उत्तर देंहटाएं
  2. Yaade - yaad aati hai, yaade tadpaati hai... umda rachna...!

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं