अबोले नयनों से !!

ब्लाग से साभार

तुमने अबोले नयनों से जो बोला
उस कहे को हमने –
आज़ रात चांद को तक तक के तोला.
देर तलक
दूर तलक सोचता रहा
शायद तुमने ये कहा ?
न तुमने वो कहा ?
जो भी
मन कहता है – तुमने कहा था !
“मुझे, तुमसे प्यार है !”
सच यही तो कहा था है न ?
अबोले नयनों से !!

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रेम के तिनकों पर लपकतीं संस्कृति की लपटें

महफ़ूज़ अली की कविता वाली ती शर्ट पहनेंगे अमेरिकन

मन के मनके साझा करतीं