तुम्हें प्यार करना चाहता हूँ !!

वीणा की इस कविता वाले टी शर्ट होली वाले दिन पहन कर विदा कह दिया शायद ही  मै इसे अब पहन सकूं किन्तु सम्हाल के रख दिया कवर्ड में.................. !
और उग आई एक प्रेम कविता देखिये 
तुम्हें प्यार करना चाहता हूँ !!
एक अधूरी चाह से तुम 
टुकुर टुकुर निहारती मुझे 
और मैं हूँ की अनदेखा करने का प्रयास करता
फिर भी तुम नि:शब्द हो
मुझे दूर तक निहारतीं हो टुकुर टुकुर 
चलो ! मान भी लूं कि तुम मुझे प्यार करती हो हो तो 
क्यों नहीं कह देतीं कि :'मुझे प्रीत है '
प्रिये !
तुम्हारी निगाहों से बिखरती आवाज़ को तुम 
शब्दों की प्लेट में 
साजों कर बस एक बार कह दो 
कि मुझसे प्यार है.....
मैं प्रीत की मदालस गंध में खोया हूँ 
जो पूरती है व्योम की ताम्र-वर्णी
आचार संहिता को ...
मुझे तुम्हें पाना है 
इस से ज़्यादा ज़रूरी है तुम मुझे छीन लो 
चलो अनुशासन और आचार संहिता को
लांघ दो 
मैं आस पास खिंच गई लक्ष्मण रेखा को 
पार करना चाहता हूँ 
तुम्हें खुल कर जी भर प्यार करना चाहता हूँ........
और फिर ये रही मेरी टीशर्ट

टिप्पणियाँ

  1. Bahut din baad aapki qalam chali.. aur kasam se chhaa gayee mere dil par...

    उत्तर देंहटाएं
  2. चलो अनुशासन और आचार संहिता को
    लांघ दो
    मैं आस पास खिंच गई लक्ष्मण रेखा को
    पार करना चाहता हूँ
    यह मासूमियत और चाहत सच में मदालस गन्ध लिये है
    अत्यंत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  3. जबरदस्त!! उम्दा!!


    बहुत दिन बाद आये और गजब का छाये.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही शानदार...

    और खासकर अनुशासन और आचार संहिता... :)
    हर दिल की चाह..

    लाजबाब !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. मुझे दूर तक निहारतीं हो टुकुर टुकुर
    चलो ! मान भी लूं कि तुम मुझे प्यार करती हो हो तो,

    कहीं भाभी जी को पता मत चल जाए के ये कौन मुई है
    जो आफ़िस जागे हुए टुकुर-टुकुर देखती है,
    चढ गया अटारी पे रे!लोटन कबुतर
    अभी पंचमी तक हो्ली है, भांग बचाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही अच्‍छी कविता, प्‍यार को परिभाषित किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह प्यार की परिभाशा इतनी सुन्दर? बहुत अच्छी लगी रचना। बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही बेहतरीन भाई , पहली बार आपको पढ़ने को मिला , लाजवाब ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक लाजवाब रचना। बहुत ही सुन्दर शब्द प्रयोग। आनन्द‍म।

    उत्तर देंहटाएं
  10. Bahut sundar rachana ...unmukt bhavo ki dilkash abhivayakti!!
    Aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  11. waah...prem aur anushaasan jyada der tak nahi chalte hain..
    ha ha ha ha ..
    bahut hi sundar bahvabhiyakti ..prem ki..

    उत्तर देंहटाएं
  12. प्यार ने कब कहा कि लक्ष्मण रेखा पार करो
    मैं मीरा बन जाऊँ प्रिय तुम श्याम रूप धरो
    माना बहुत मुश्किल तुम्हारा मेरी राह पर चलना
    उठ जाये अंगुलियां मुझपर,पर तुम निष्कलंक रहो

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं