संदेश

फ़रवरी, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

शहरोज़ जी को पहली बार रंगा था उनकी प्रेमिका ने:पाडकास्ट इंटरव्यू

चित्र
कई खुलासे कर दिए शहरोज भाई ने  हसीन यादें बाक़ी हैं दिल में शहरोज़ भाई  के साथ हुई बातचीत में हुआ इस बात का खुलासा  और  इसे यहाँ क्लिक करके सुनिए =>  संवाद एवं विमर्श   सुनिए श्रीमती रानी विशाल जी को '' उज्जैन की होली के क्या कहने !' ' अति  शीघ्र   ही 

दिलों को जीतने का शौक :जीतने का हुनर भी

चित्र
प्रियराज यानी गिरीराज किशोर शर्मा   एक अनोखी जिंदादिल ज़िंदगी जीते नज़र आ रहे हैं  सपत्नीक व्यक्तिगत यात्रा पर बरतानियाँ गए शर्मा जी की धर्म पत्नी  स्वर्गीय श्रीमती शकुन्तला जी  ब्रेन हेम्ब्रेज होने से 14 नवम्बर, 2005 को  इस दुनियाँ को छोड़ कर चलीं गईं प्रियराज़ की जिन्दगी नें उनको अवसाद में डुबो दिया हौले हौले ज़िंदगी ने फिर रफ़्तार पकड़ी और आज वे हम सबके बीच  एक रूमानी कवि के रूप में हैं उनके ब्लॉग का नाम है 'दिलों को जीतने का शौक ' मेरी नज़र में दिलों को जीतने का हुनर भी है उनमें