मन अनुरागी जोगी तेरा हम-तुम में कैसी ये अनबन


मन की सूती जिज्ञासा को
काँटों पर मत रखना प्रियतम
मन अनुरागी जोगी  तेरा
हम-तुम में कैसी ये अनबन
*********************
कितने  रुच रुच नेह निवाले
सोच सोच कर रखतीं हो !
एकाकी होती हो जब तुम
याद मेरी कर हंसती हो !
मत रोको अब प्रेम धार को
कह दो कब होगा मन संगम
मन की सूती जिज्ञासा को                                                         
काँटों पर मत रखना प्रियतम..!
************************
पीत-वसन -प्रीत भरा मन
पल-पल मुझसे मिलने आना  
कोई और निहारे मुझको
बिना लपट के वो जल जाना
प्रेम पथिक हम दौनों ही हैं 
प्रिय तुम ही अब  तोड़ो मन  संयम !
मन की सूती जिज्ञासा को
काँटों पर मत रखना प्रियतम..!
_______________________________________________
चित्र साभार:स्वप्न मंजूषा शैल व्हावा http://mishraarvind.blogspot.com
_______________________________________________

टिप्पणियाँ

  1. कोई और निहारे मुझको
    बिना लपट के वो जल जाना.....
    प्रेम का एक रूप यह भी है ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. पीत-वसन -प्रीत भरा मन
    पल-पल मुझसे मिलने आना
    कोई और निहारे मुझको
    बिना लपट के वो जल जाना
    प्रेम पथिक हम दौनों ही हैं
    प्रिय तुम ही अब तोड़ो मन संयम !
    मन की सूती जिज्ञासा को
    काँटों पर मत रखना प्रियतम..! ितनी सुन्दर रचना पर निश्ब्द हो गयी हूँ। बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनाएं....!

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रेम पथिक हम दौनों ही हैं
    प्रिय तुम ही अब तोड़ो मन संयम !
    मन की सूती जिज्ञासा को
    काँटों पर मत रखना प्रियतम.....

    निर्मल प्रवाह की तरह बहती हुई रचना .... सुंदर शब्द, कोमल भावनाएँ है .....

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं