जब हम तुम नज़दीक नहीं तो- होता है सांचा अभिसार !!


विरह ताप से रिसें जो रिश्ते  कैसे फ़िर पाएं आकार ? 
एहसासों के बंधन को , मत कहिये इक जनव्यव्हार !!
***********
अनुबंधों से प्रतिबंधों तक सब कुछ मेरा तेरा है.....
प्रीत हुई तो सब कुछ "अपना" ना कुछ तेरा-मेरा है !
ध्यान से सुनना मन की वीणा यही कहे है हर झंकार !!
                                        एहसासों के बंधन को , ....... !!
***********
जिसने विरह की पीढा भोगी, उसका उतना तापस मन है
प्रीत-आधारी दुनियां साथी,शेष सभी कुछ उजड़ा वन  है !
जब हम तुम नज़दीक नहीं तो- होता है सांचा अभिसार !!
                                        एहसासों के बंधन को , ......... !!
***********
न तुम भटको न मैं अटकूं, चिंता के इस बयाबान में
एक कसम हम दौनों ले लें-रहें हमेशा एक ध्यान में !
प्रीत प्रियतम एक पावन पूजा,न तो तिज़ारत न व्यापार
                                       एहसासों के बंधन को , ......... !!
***********





टिप्पणियाँ

  1. न तुम भटको न मैं अटकूं, चिंता के इस बयाबान में
    एक कसम हम दौनों ले लें-रहें हमेशा एक ध्यान में !.. वाह !! आपकी रचना बहुत पसंद आई गिरीश जी .. !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. आभार ये एक "आध्यात्मिक एहसास है"

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रीत प्रियतम एक पावन पूजा,न तो तिज़ारत न व्यापार
    यही होता है सांचा अभिसार. बहुत सुन्दर रचना... गहन भाव...

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं

लोकप्रिय पोस्ट