गीतों भरी तन्हाई और तुम


Posted by Picasa
   दिल का दिया जलते ही दिल की धड़कने रंग लाने लगीं और तुम्हारी यादें उस एकाक़ी पल में तुम्हारे क़रीब और क़रीब ले आतीं हैं. मुझे याद हैं वो पल जब अचानक़ किसी काम के लिये तुम्हारे घर जाया करता था तुम शर्मीले अंदाज़ से कनखियों से मुझे निहांरतीं फ़िर खुद को सम्हाल के कहतीं हड़बड़ाहट के साथ - जी, भैया नहीं है आईये न आईये न.. शायद तब तुम्हारी तेज़ धडकनें आवाज़ में जो क़शिश होती उसी को याद करता हूं अक्सर तन्हाई में तुम्हारी तस्वीर देखता हूं पर जो बात तुझमें है वो तेरी तस्वीर में कहां..? are
और उस शाम जब देर तक हम तुम बातों ही बातों में दूर तलक निकल आए थे सपनीली-फ़ुलवारी में तब ही तो छिड़ी थी फ़ूलों की बात   ये  क्या  अब  तो पुकार लो ....सच अब वीराने में ""दिल तडप के क्या सदा दे रहा" है 
नोट :  इस पोस्ट में चुनिंदा लिंक हैं जो उस दिन जब अकेले में सफ़र के दौरान खाली वक़्त में सुन रहा था .आप भी सुनिये 

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं

लोकप्रिय पोस्ट