डरतीं हूं ये सतफ़ेरा जोड कहीं.. आभासी न रह जाए..?

एक प्रेयसी सी
नित मैं बांट जोहती 
अपलक !!
अधगूंथे आटे भरे हाथ से
उठातीं हूं ..
फ़ोन एस एम एस पढ़ने को !!
वो जो तुम्हारा नही होता !!
अनचाहे व्यावसायिक 
सदेशों की तरह 
तुम्हारे 
संदेशों को पढ़ पढ़ उकता गई हूं
तुम एक न एक विवषता के सहारे
मुझे भरोसा देने में कामयाब हो जाते हो..
डरतीं हूं ये सतफ़ेरा जोड
कहीं.. आभासी न रह जाए..?





टिप्पणियाँ

  1. बहुत अच्छी रचना... रिश्तों के बदलते आयामों पर गहरा कटाक्ष... आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    श्री कृष्ण जन्माष्टमी की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं

लोकप्रिय पोस्ट