मन मधुवन अरु देह राधिका हिवड़ा ताल सजाए





मन  मधुवन अरु देह राधिका   हिवड़ा ताल सजाए ! 
कैसे रोकूं ख़ुद को कान्हा,  सावन   मन भरमाए  !!
**************
मैं बिरहन बिरहा की मारी, अश्रु झरें ज्यों चिंगारी
बेसुध हूं मैं तन अरु  मन से,  चीन्हो मोहे  श्रृंगारी
सावन बीतो जाए..
***************

नातों के बन छोड़ के मोहे, राधा संग तुम रास रचाते
मंदिर मंदिर नाचूं गाऊं,  प्रिय तुम मोहे चीन्ह न पाते
जोबन बीतो जाए..
***************

करुण पुकार सुनी कान्हा ने, आए अरु मुस्काए
सुन प्रिय मोरी चाहत उसपे.. जो न स्वांग रचाए
बिन चाहत के आए...











टिप्पणियाँ

लोकप्रिय पोस्ट