तस्वीर है कि बुत है या कुछ भी नही है वो पूजा करो इबादत करो ये बात कम करो

::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
एक बूँद भी मिल जाए तो बस  आचमन करो
पीते जो हो तो बादाकशों सा आचरण करो .
ऐ साकी तुझसे  बूँद का नाता नहीं मेरा 
सागर में आके मेरे गंगो-जमुन भरो
डटके पियो शराब,पूजा घरों में आप
बेदम निढाल होके उसकी शरण पड़ो .
लाखों नशे हैं दौरे -तिज़ारत के आज़कल 
मय आशक़ी का  मेरे बादा में तुम भरो .
तस्वीर है कि बुत है या कुछ भी नही है वो 
पूजा करो इबादत करो ये बात कम करो 
वो धूप है कि छांव है किसको पता है क्या-
वो जो भी है कुछ तो है अब तो नमन करो !
 ::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::


टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं

लोकप्रिय पोस्ट