इस तस्वीर को देख कोई कविता लिखिये

इस तस्वीर की नायिका की मनोदशा उजागर करती कविता का इन्तज़ार रहेगा

अन्तिम तिथि : २५/१२/२०१० शाम ५ बजे तक

टिप्पणियाँ

  1. आज फिर से
    याद आये तुम
    आँखें नम हुई
    विगत स्मृतियों ने
    बहुत रुलाया,
    आज फिर से
    याद आये वो दिन
    जब तुम मेरी जुल्फों को
    सवांरा करते थे
    मैं रूठा करती थी
    तुम मनाया करते थे,
    लेकिन कब तक
    कब तक मैं यूँ ही
    तेरी यादों के सहारे जीती रहूँ
    कब तक
    ज़हर जुदाई का पीती रहूँ!
    कब तक ????

    उत्तर देंहटाएं
  2. कविता ? इस पर तो महाकाव्य लिखा जा सकता है हाहाहा ।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं

लोकप्रिय पोस्ट