खुद जल जल झिलमिल करती जग ,दीपक की वो दीप शिखा सी ...!

पीर भरा मन और मुस्काता साहस का संदेशा लेकर
मीत मिला - एक दोराहे  पे , नाता इक  अनदेखा लेकर !
******************
खुद जल जल झिलमिल करती जग ,दीपक की वो  दीप शिखा सी ...!
उसका साहस देख चकित मन,  भाग के लेखे स्वयं  मिटाती !!
मीत मिला - एक दोराहे  पे , नाता इक  अनदेखा लेकर !
*****************
कैसे कह दूं और क्या कह दूं ? प्रश्न घूमते मेरे मानस
हो जाता भावुक मन मेरा , नम  आँखों  से करता स्वागत !!
मीत मिला - एक दोराहे  पे , नाता इक  अनदेखा लेकर !

टिप्पणियाँ

  1. गा क्यूँ नहीं रहे आजकल साथ साथ?

    उत्तर देंहटाएं
  2. अजिता जी शुक्रिया
    समीर जी आदेश सर माथे
    इन्तज़ार करना होगा

    उत्तर देंहटाएं
  3. पीर भरा मन और मुस्काता साहस का संदेशा लेकर
    मीत मिला - एक दोराहे पे , नाता इक अनदेखा लेकर
    बेहद खूबसूरत..

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं

लोकप्रिय पोस्ट