प्रियतमा और चांद

छवि:फ़िरदौस की डायरी से साभार ___________________
_______________________________________________

_______________________________________________

_______________________________________________

_______________________________________________


टिप्पणियाँ

  1. are waah chaand par itna kuch keh gaye shayar log..kahin chaand ko ghamand na ho jaaye...

    उत्तर देंहटाएं
  2. इतनी सुन्दर प्रस्तुतियाँ सुनवाने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं

लोकप्रिय पोस्ट