तुम्हारी सादगी ही उनके

http://www.lehigh.edu/~amsp/vidya%20balan.jpg
  

प्रीत दिल में और मधुर सी   मुस्कान लब पे
मेरी दीवानगी की बस इतनी ही वज़ह है. 
तुम्हारी  सादगी  से  रूपसी हूरें सुलगती हैं 
तुम्हारी सादगी ही उनके   सुलगने की वज़ह है

 

टिप्पणियाँ

  1. WAAH...KYA BAAT KAHI...BAHUT HI SUNDAR !!!
    IN CHAAR PANKTIYON ME HI AAPNE BAHUT KUCHH KAH DIYA...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब ........ सादगी ही वजह है सुलगने की ...... लाजवाब एहसास ......

    उत्तर देंहटाएं
  3. तुम्हारी सादगी से रूपसी हूरें सुलगती हैं
    तुम्हारी सादगी ही उनके सुलगने की वज़ह है
    ....bahut sundar, dil se nikli awaz.

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ कीजिए शायद सटीक लिख सकूं

लोकप्रिय पोस्ट